गुरुवार, अप्रैल 06, 2017

निमित्त मात्रं


 आजकल अक्सर इस श्लोक की अंतिम पंक्ति याद आ जाती है.  इसलिए नहीं कि भगवान श्रीकृष्ण ये कहते हैं.अर्जुन से कि करने वाला मैं हूँ.तू खड़ा हो जा बस . बल्कि इसलिए, कि सारा कार्य तो मिल-बैठ के सबकी मदद  से होना है -- कर्ता  तो निमित्त मात्र के लिए है।

श्रीमद्भागवत गीता : अद्ध्याय ११ , श्लोक ३३:

तस्मात्त्वमुत्तिष्ठ यशो लभस्व
जित्वा शत्रून् भुङ्क्ष्व राज्यं समृद्धम्।

मयैवैते निहताः पूर्वमेव

निमित्तमात्रं भव सव्यसाचिन्।।11.33।।

अक्सर "भयावह स्थितियों" में  शायद संस्कृत के श्लोक याद आते हैं.


अप्रेल ६, २०१७