बुधवार, दिसंबर 14, 2011

sakhi eari aali piya bin- Bhimsen Joshi ( Bhajan )


लीजिये सुनिए भीमसेन जोशी जी  को:
"सखी एरी आली पिया बिन "
"जब से पिया परदेश ---"  वो ही पुरानी  बात-  लेकिन अंदाज देखिये:

  http://www.youtube.com/watch?feature=endscreen&NR=1&v=n_१ज्सो७ए६य़

Sakhi yeri aali piya bin,
Kalna padat mohe, ghadhi-pal-chhin-din.
Yeri…

Jabse piya pardes gawan kinho…
Ratiya katat mori taare gin gin

Yeri…



प्रेम
दिसंबर के चेन्नई के इस हिसाब से बेढंगे मौसम में


१४ दिस २०११.

मंगलवार, दिसंबर 06, 2011